वर्ण-माला मुद्रण ई-मेल

संस्कृत में हर अक्षर, स्वर और व्यंजन के संयोग से बनता है, जैसे कि याने क् (हलन्त) अधिक अ । स्वर सूर/लय सूचक है, और व्यंजन शृंगार सूचक ।   

संस्कृत वर्णॅ-माला में 13 स्वर, 33 व्यंजन और 2 स्वराश्रित ऐसे कुल मिलाकर के 49 वर्ण हैं । स्वर को अच् और ब्यंजन को हल् कहते हैं ।
अच् 14
हल् 33
स्वराश्रित 2

14 स्वरों में से 5 शुद्ध स्वर हैं; अ, इ, उ, ऋ, लृ
और 9 अन्य स्वर: आ, ई, ऊ, ऋ, लृ, ए, ऐ, ओ, औ  

मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से भिन्न-भिन्न वर्णों का उच्चारण होता है । मुख के अंदर पाँच विभाग हैं, जिनको स्थान कहते हैं । इन पाँच विभागों में से प्रत्येक विभाग में एक-एक स्वर उत्पन्न होता है, ये ही पाँच शुद्ध स्वर कहलाते हैं । स्वर उसको कहते हैं, जो एक ही आवाज में बहुत देर तक बोला जा सके । 

33 व्यंजनों में 25 वर्ण, वर्गीय वर्ण हैं याने कि वे पाँचपाँच वर्णों के वर्ग में विभाजित किये हुए हैं । बाकी के 8 व्यंजन विशिष्ट व्यंजन हैं, क्यों कि वे वर्ग़ीय व्यंजन की तरह किसी एक वर्ग में नहीं बैठ सकतें । वर्गीय व्यंजनों का विभाजन उनके उच्चारण की समानता के अनुसार किया गया है ।

*  कंठ से आनेवाले वर्ण कंठव्य कहलाते हैं उ.दा. क, ख, ग, घ
*  तालु की मदत से होनेवाले उच्चार
तालव्य कहलाते हैं उ.दा. च, छ, ज, झ
*  ‘मूर्धा से (कंठ के थोडे उपर का स्थान) होनेवाले उच्चार मूर्धन्य हैं उ.दा. ट, ठ, ड, ढ, ण
*  दांत की मदत से बोले जानेवाले वर्ण दंतव्य हैं उ.दा. त, थ, द, ध, न; औ
*  होठों से बोले जानेवाले वर्ण ओष्ठव्य कहे जाते हैं उ.दा. प, फ, ब, भ, म  

कंठव्य / वर्ग    क्   ख्   ग्   घ्   ङ्
तालव्य / वर्ग   च्  छ्   ज्  झ्  ञ्
मूर्धन्य /
वर्ग    ट्  ठ्  ड्  ढ्  ण्

दंतव्य /
वर्ग    त्  थ्  द्  ध्  न्
ओष्ठव्य / वर्ग    प्  फ्  ब्  भ्  म्
विशिष्ट व्यंजन -     
य्  व्  र्    ल्  श्  ष्   स्   ह्  
 

स्वर और व्यंजन के अलावा (अनुस्वार), और (विसर्ग) ये दो स्वराश्रित कहे जाते हैं, और इनके उच्चार कुछ खास नियमों से चलते हैं जो आगे दिये गये हैं । 

इन 49 वर्णों को छोडकर, और भी कुछ वर्ण सामान्य तौर पे प्रयुक्त होते हैं जैसे कि त्र, क्ष, ज्ञ, श्र इत्यादि । पर ये सब किसी न किसी व्यंजनों के संयोग से बने गये होने से उनका अलग अस्तित्व नहि है; और इन्हें संयुक्त वर्ण भी कहा जा सकता है ।

, , , और ये विशिष्ट वर्ण हैं क्यों कि स्वर-जन्य (स्वरों से बने हुए) हैं, ये अन्तःस्थ व्यञ्जन भी कहे जाते हैं । देखिए:
इ / ई + अ = य (तालव्य)
उ / ऊ + अ = व (दंतव्य तथा ओष्ठव्य)
ऋ / ऋ + अ = र (मूर्धन्य)
लृ / लृ + अ = ल (दंतव्य)

इनके अलावा , , और के उच्चारों में बहुधा अशुद्धि पायी जाती है । इनके उच्चार स्थान अगर ध्यान में रहे, तो उनका उच्चारण काफी हद तक सुधारा जा सकता है ।
श = तालव्य
ष = मूर्धन्य
स = दंतव्य
ह = कण्ठ्य
ये चारों ऊष्म व्यंजन होने से विशिष्ट माने गये हैं ।

संस्कृत में हर अक्षर, स्वर और व्यंजन के संयोग से बनता है, जैसे कि याने क् (हलन्त) अधिक अ । स्वर सूर/लय सूचक है, और व्यंजन शृंगार सूचक ।   

संस्कृत वर्णॅ-माला में 13 स्वर, 33 व्यंजन और 2 स्वराश्रित ऐसे कुल मिलाकर के 49 वर्ण हैं । स्वर को अच् और ब्यंजन को हल् कहते हैं ।
अच् 14
हल् 33
स्वराश्रित 2
Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in