ध्यानेनात्मनि पश्यन्ति मुद्रण ई-मेल
ध्यानेनात्मनि पश्यन्ति केचिदात्मानमात्मना ।
अन्ये साङ्ख्येन योगेन कर्मयोगेन चापरे ॥ २४ ॥

उस परमात्मा को कितने ही मनुष्य शुद्ध हुई बुद्धि से ध्यान के द्वारा हृदय में देखते है, अन्य ज्ञानयोग के द्वारा तो कुछ कर्मयोग के द्वारा उसे देखते है - प्राप्त करते है ।

Comments (0)
Only registered users can write comments!
 

[+]
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
 Type in